युवाओं की अनंत ऊर्जा को जागृत करने की जरुरत : एके मिश्रा

प्रत्येक वर्ष 12 जनवरी को स्वामी विवेकान्द जी के जयंती पर रास्ट्रीय युवा दिवस भारत में मनाया जाता है किसी भी देश के युवा उसका भविष्य होते हैं. उन्हीं के हाथों में देश की उन्नति की बागडोर होती है. आज के पारिदृश्य में जहां चारो ओर भ्रष्टाचार, बुराई, अपराध का बोलबाला है जो घुन बनकर देश को अंदर ही अंदर खाए जा रहे हैं. ऐसे में देश की युवा शक्ति को जागृत करना और उन्हें देश के प्रति कर्तव्यों का बोध कराना अत्यंत आवश्यक है. विवेकानंद जी के विचारों में वह क्रांति और तेज है जो सारे युवाओं को नई चेतना से भर देता है उनके दिलों को भेद देता है, उनमें नई ऊर्जा और सकारात्कमता का संचार कर देता है, युवा दिवस के दिन चाणक्या आइएएस एकेडमी के संस्थापक सह एके मिश्रा फाउंडेशन के चेयरमैन सक्सेस गुरु एके मिश्रा ने स्वामी विवेकान्द जी के जयंती पर युवाओं को सन्देश देते हुए ऐसा कहा. साथ ही उन्होंने युवाओं को प्रेरणात्मक स्रोत देते हुए कहा कि आज झारखण्ड जैसे राज्य में युवाओं को स्वामी जी के आदर्शों और मार्गदर्शन पर चलने की जरुरत है जिस तरह उन्होंने भारत के सोये हुए समाज को जगाया और उनमे एक नयी ऊर्जा और उमंग का प्रसार किया आज उसी चीज को दोहराने की बारी आ गयी है. वो हमेशा कहते थे कि देश के आन्तरिक विकास में युवाओं की भागीदारी जरुरी है. और साएद यही वजह है कि आज शिक्षा, खेलकूद और रोजगार सभी क्षेत्रों में युवा ही प्रगतिशील है. हजारीबाग के युवा भी राज्य ही नहीं पुरे देश में जिले का नाम मानचित्र पटल पर रख कर अपना नाम रोशन कर रहें हैं सभी को सुभकामनाएँ देते हुए सक्सेस गुरु ने कहा कि हजारीबाग के युवा उर्जावान है यहाँ सही मार्गदर्शन और मंच की आवश्कयता है अगर वो इन्हें मिल जाये तो यहाँ के युवा किसी भी क्षेत्र में अपने आप को बेहतर शाबित कर सकते हैं. सक्सेस गुरु ने नव वर्ष में बच्चों को शुभकामनाएं देते हुए कहा है कि इस युवा दिवस कुछ वादा अपने अंतरात्मा से करें. चरित्र निर्माण व्यक्तित्व विकास की भावना को अपने अन्दर जागरूक करें, युवाओं में तेज है लेकिन शक्ति को जाहिर करने में अपने आप को मजबूत नहीं बना पातें. एक युवा अपने मन मस्तिष्क में समाज परिवार व देश दुनिया की तमाम चीजों पर काफी कुछ गहन करता है सोचता है और एक बदलाव के रूप में कल्पना करता है. ये सच भी हो सकता है एक बेहतर समाज का निर्माण इन्ही के हाथ में है बशर्ते आज उनके अंतरात्मा को जागृत करने की जरुरत है.