एके मिश्रा फाउंडेशन ने किया विचार गोष्ठी का आयोजन

समस्याओं की रुपरेखा बनाकर मुझे सौंपे कार्य मै करूँगा : एके मिश्रा

चाणक्या आइएएस अकादमी एवं एके मिश्रा फाउंडेशन के संयुक्त तत्वाधान में शुक्रवार को हजारीबाग के विनायक होटल में एक दिवसीय संगोष्टी का आयोजन किया गया. गोष्टी में हजारीबाग जिले के प्रभुत्व वैसे नागरिक शामिल हुए जो सामाजिक व राजनितिक क्षेत्र से कहीं न कहीं अपने स्थानों से प्रतिनिधित्व करते है. एके मिश्रा फाउंडेशन द्वारा आयोजित किये गए इस विचार गोष्ठी का विषय वस्तु था हजारीबाग व झारखण्ड का विकास कैसे हो, विचार गोष्ठी में हजारीबाग के 16 प्रखंड से आये लगभग 500 समाजसेवियों ने सिरकत ली. सभी अपने अपने क्षेत्र में व्यापक जानकारी से परिपूर्ण थे. अध्यक्षीय भाषण देते हुए सक्सेस गुरु एके मिश्रा ने कहा कि हमारी ये आदत हो गयी है की हम अपने समन्वित विकास के लिए सरकार की ओर देखते रहतें है जबकि हमारे इर्द गिर्द हमारे पास ही इतने व्यापक संसाधन मौजूद होतें है, इन संसाधनों का समुचित प्रबन्धन करके अपना व समाज दोनों का उत्थान कर सकतें हैं. सक्सेस गुरु ने आगे कहा की इसी प्रकार के प्रयास के लिए व हजारीबाग के विकास के लिए अपने 5 सूत्री कार्यक्रम के तहत समाज को विकसित करने की जिमेवारी एके मिश्रा फाउंडेशन ने ली है, उपस्थित जनसमूह से कहा की आप अपने गांव, पंचायत, प्रखंड के सभी क्षेत्र से प्रचलित वहां के सम्स्य को भली भांति जानते है आपसे आग्रह है की आप अपने पंचायत व प्रखंड के विशेषीकृत विकास की एक रुपरेखा या रिपोर्ट वहां की समस्याओं पर आधारित मुझे सौंपे. उस रिपोर्ट के आधार मै देश-विदेश के विशेषज्ञों से राय लेकर यथा संभव विकास की रूप रेखा तैयार करूँगा साथ ही उस पर कार्य किया भी किया जायेगा इस प्रकार छोटे छोटे प्रयासों से व्यापक पैमाने पर हजारीबाग और झारखण्ड का विकास हो सकेगा. सक्सेस गुरु एके मिश्रा अपना प्रसिद्ध नारा “देश बदलना है तो स्वंय को बदलो” दोहराते हुए कहा की हममें आपार छमता है, संसाधन उपलब्ध है जरुरत है तो उसके समायोजन की.

अधिवक्ता ही समाज के निर्माता : एके मिश्रा

वकीलों की समाज में महत्वता पर विचार व्यक्त करते हुए एके मिश्रा फाउंडेशन के फाउंडर चेयरमैन सक्सेस गुरु एके मिश्रा ने अपनी भावना रखी. आज समाज के निर्माण में अधिवक्ताओं का ही सबसे महत्वपूर्ण योगदान है, जिस समय भारत अंग्रजों के अधीन गुलाम था उस समय अधिवक्ताओं ने ही समाज को नयी दिशा देकर आगे बढ़ाने का काम लिया था. लगातार अपने योगदान से भूमिका निभा रहे वकील के कारण ही देश को आजादी में मदद मिली. आपलोगों ही सही मायने में समाज को नयी दिशा प्रदान करते हैं उक्त बातें ऐके मिश्रा फाउंडेशन के द्वारा आयोजित बीते शुक्रवार गणतंत्र दिवस के संध्या विनायक होटल के बैठक में सक्सेस गुरु एके मिश्रा संबोधित कर रहे थे. इस कार्यक्रम में हजारीबाग व्यहवार न्यायलय के करीब 500 अधिवक्ताओं ने सिरकत ली, जिसमें बार एसोसिएशन के सारे समानित सदस्य उपस्थित थे, बैठक के साथ साथ उक्त अवसर पर सांस्कृतिक संध्या का भी आयोजन किया गया. मौके पर सक्सेस गुरु एके मिश्रा ने वरिष्ठ अधिवक्ताओं को शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया. सांस्कृतिक संध्या कार्यक्रम के तहत अपने आत्म परिवर्तन कर देने वाली बातों से विखाय्त सक्सेस गुरु एके मिश्रा ने अपनी एक ओर कला संगीत गायन से अधिवक्ताओं को मोहित किया, पुराने गाने को अपने अंदाज में प्रस्तुत कर कार्यक्रम की समां बांध दी, जिसके बाद उपस्थित अधिवक्ताओं ने भी अपने अन्दर छुपे गीत को मंच के सामने प्रस्तुत करते नजर आये.